March 2016 - Altu & Faltu

Hot

29 मार्च 2016

April Fool की सच्चाई क्या है?

10:58 pm 0

April Fool की सच्चाई क्या है?


अप्रैल फूल" किसी को कहने से पहले इसकी वास्तविक सत्यता जरुर जान ले.!!
पावन महीने की शुरुआत को मूर्खता दिवस कह रहे हो !!
पता भी है क्यों कहते है अप्रैल फूल (अप्रैल फुल का अर्थ है - हिन्दुओ का मूर्खता दिवस).??
ये नाम अंग्रेज ईसाईयों की देन है…
मुर्ख हिन्दू कैसे समझें "अप्रैल फूल" का मतलब बड़े दिनों से बिना सोचे समझे चल रहा है अप्रैल फूल, अप्रैल फूल ???
इसका मतलब क्या है.?? दरअसल जब ईसाइयत अंग्रेजो द्वारा हमे 1 जनवरी का नववर्ष थोपा गया तो उस समय लोग विक्रमी संवत के अनुसार 1 अप्रैल से अपना नया साल बनाते थे, जो आज भी सच्चे हिन्दुओ द्वारा मनाया जाता है, आज भी हमारे बही खाते और बैंक 31 मार्च को बंद होते है और 1 अप्रैल से शुरू होते है, पर उस समय जब भारत गुलाम था तो ईसाइयत ने विक्रमी संवत का नाश करने के लिए साजिश करते हुए 1 अप्रैल को मूर्खता दिवस "अप्रैल फूल" का नाम दे दिया ताकि हमारी सभ्यता मूर्खता लगे अब आप ही सोचो अप्रैल फूल कहने वाले कितने सही हो आप.?
याद रखो अप्रैल माह से जुड़े हुए इतिहासिक दिन और त्यौहार
1. हिन्दुओं का पावन महिना इस दिन से शुरू होता है (शुक्ल प्रतिपदा)
2. हिन्दुओ के रीति -रिवाज़ सब इस दिन के कलेण्डर के अनुसार बनाये जाते है।
3. महाराजा विक्रमादित्य की काल गणना इस दिन से शुरू हुई।
4. भगवान श्री राम का जन्म इस महीने में आता है।
5. परम पूजनीय डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार जी का जन्म दिवस है।
6. आज का दिन दुनिया को दिशा देने वाला है।
अंग्रेज ईसाई, हिन्दुओ के विरुध थे इसलिए हिन्दू के त्योहारों को मूर्खता का दिन कहते थे और आप हिन्दू भी बहुत शान से कह रहे हो.!!
गुलाम मानसिकता का सुबूत ना दो अप्रैल फूल लिख के.!!
अप्रैल फूल सिर्फ भारतीय सनातन कलेण्डर, जिसको पूरा विश्व फॉलो करता था उसको भुलाने और मजाक उड़ाने के लिए बनाया गया था। 1582 में पोप ग्रेगोरी ने नया कलेण्डर अपनाने का फरमान जारी कर दिया जिसमें 1 जनवरी को नया साल का प्रथम दिन बनाया गया।
जिन लोगो ने इसको मानने से इंकार किया, उनको 1 अप्रैल को मजाक उड़ाना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे 1 अप्रैल नया साल का नया दिन होने के बजाय मूर्ख दिवस बन गया।आज भारत के सभी लोग अपनी ही संस्कृति का मजाक उड़ाते हुए अप्रैल फूल डे मना रहे है।
Source: Whatsapp

Desclaimer: इस पोस्ट में लिखे गए किसी भी वाक्य से इस ब्लॉग का कोई संबंध नही हैं , लेखक ने अपनी निजी भावना को व्यक्त किया है ।
Read More

10 मार्च 2016

Bill Gates द्वारा बताई गयी 10 बाते जिंदगी को सफल बनाने के लिए | जरूर पढ़ें

6:10 am 0
🙇 बिल गेट्स ने एक स्कूल में भाषण के दौरान 10 बातें बताई जो विद्यार्थियों को नहीं सिखाई जाती...




नियम १ – जीवन उतार-चढ़ाव से भरा है इसकी आदत बना लो.
नियम २ – लोग तुम्हारे स्वाभिमान की परवाह नहीं करते इसलिए पहले खुद को साबित करके दिखाओ.
नियम ३ – कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद 5 आंकड़े वाली पगार की मत सोचो, एक रात में कोई वाइस प्रेसिडेंट नहीं बनता. इसके लिए अपार मेहनत पड़ती है.
नियम ४ – अभी आपको अपने शिक्षक सख्त और डरावने लगते होंगे क्योंकि अभी तक आपके जीवन में बॉस नामक प्राणी से पाला नहीं पड़ा.
नियम ५ – तुम्हारी गलती सिर्फ तुम्हारी है तुम्हारी पराजय सिर्फ तुम्हारी है किसी को दोष मत दो इस गलती से सीखो और आगे बढ़ो.
नियम ६ – तुम्हारे माता पिता तुम्हारे जन्म से पहले इतने निरस और ऊबाऊ नही थे जितना तुम्हें अभी लग रहा है तुम्हारे पालन पोषण करने में उन्होंने इतना कष्ट उठाया कि उनका स्वभाव बदल गया.
नियम ७ – सांत्वना पुरस्कार सिर्फ स्कूल में देखने मिलता है. कुछ स्कूलों में तो पास होने तक परीक्षा दी जा सकती है लेकिन बाहर की दुनिया के नियम अलग हैं वहां हारने वाले को मौका नहीं मिलता.
नियम ८ – जीवन के स्कूल में कक्षाएं और वर्ग नहीं होते और वहां महीने भर की छुट्टी नहीं मिलती. आपको सिखाने के लिए कोई समय नहीं देता. यह सब आपको खुद करना होता है.
नियम ९ – tv का जीवन सही नहीं होता और जीवन tv के सीरियल नहीं होते. सही जीवन में आराम नहीं होता सिर्फ काम और सिर्फ काम होता है .
नियम १० – लगातार पढ़ाई करने वाले और कड़ी मेहनत करने वाले अपने मित्रों को कभी मत चिढ़ाओ. एक समय ऐसा आएगा कि तुम्हें उसके नीचे काम करना पड़ेगा.
"विश्वास " किसी पर इतना करो कि वो तुम्हे फंसाते समय खुद को दोषी समझें...
" प्रेम " किसी से इतना करो कि उसके मन में तुम्हें खोने का डर बना रहे.
Read More

8 मार्च 2016

Examination Chutiyapa | Viral Video

9:16 pm 0



जैसे ही बोर्ड एग्जाम का माहौल आता है  . जितने भी लोगो को एग्जाम देना होता है . भले ही वो पढाई नहीं करते हैं लेकिन जब कोई बोलता है एक काम कर दो ...अरे मेरा बोर्ड है . कुछ समझ नहीं आता क्या आपको .??
जैसे लगता है बोर्ड के Topper वही बनेगा .



ऐसे ही कुछ सियापे को भुवन ने अपने विडियो में एक्सप्रेस किया है . जो सोशल मीडिया पर धम्माल मचा रहा है . अगर आपने यह विडियो नहीं देखा तो मुझे लगता है यह विडियो आपको देखना चाहिए .
वैसे बोर्ड के एग्जाम का जो डर होता है उस डर से लगभग सब लोग गुजर चुके हैं .  आज के टाइम में लड़के बोर्ड के प्रिपरेशन के लिए इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का use कर रहे हैं . बोलते हैं एडवांस हैं हम . जैसे ही वो कोई टॉपिक इन्टरनेट पर सर्च करते हैं उसको पढ़ते पढ़ते एक और टैब ओपन कर लेते हैं जिसमे फेसबुक खुला होता हैं . फिर फेसबुक पर पूछ रहे होते हैं कि कितना पढ़ा ... थोड़ी देर में फेसबुक के साथ साथ Youtube भी खुल जाता है . और जब थोडा और टाइम बीत जाये तो वो वाले साइट्स भी ओपन होने लगते हैं . इसको बोलते हैं एडवांस ...!!


पूरा एग्जाम का चुतियापा इस विडियो में देखे ..!!



Read More

6 मार्च 2016

कन्हैया कुमार देशद्रोही के साथ साथ मुर्ख भी है !!

1:09 am 0
कन्हैया की मूर्खता का अंदाजा उसके भाषण से लगाया जा सकता है। वह मोदी जी से कह रहा है...हम क्या मांगे आज़ादी..
आज़ादी वह भी गरीबी से...अरे मूर्ख इस देश को गरीबी मोदी ने नहीं, साठ साल के कांग्रेस शासन ने दी है। तुम्हें यह गरीबी तुम्हारे बिहार के लालू-नीतीश ने दी है। जिस गरीबी की तुम बात कर रहे हो,वह किसी और ने नहीं तुम्हारे ही वामपंथी नेताओं ने दी है। जिन्हें तुम अपना आदर्श मानते हो। यदि तुम्हारी नज़रे ठीक हैं तो एक बार गौर से बंगाल, बिहार जैसे राज्यों की तरफ देखो...तुम्हें सब समझ आ जाएगा। इस देश की गरीबी मोदी की देन नहीं है। इस देश की गरीबी तुम जैसे मूर्ख लड़को की देन है। जो मेहनत करने के बजाए...कैंपस में नारे लगाने में अपनी शान समझते हैं। तुम जैसों को गरीबी से लड़ना नहीं है। उसे पालना, पोसना और बड़ा करना है ताकि तुम कल नेता बन सको। तुम्हें तुम्हारी गरीबी की इतनी ही चिंता होती तो कॉलेज खत्म होने के बाद तुम कैंपस में नेतागीरी नहीं कर रहे होते। तुममें गरीबी से लड़ने की समझ होती तो कैंपस में लेदर का जैकिट और जींस की पैंट पहनकर स्टाईल मारने की जरूरत नहीं होती। तुम्हें गरीबी इतनी ही डसती तो तुम गांधी की तरह अपने कपड़े अब तक दान कर चुके होते। तुम चाहते तो किसी होटल, दुकान, मॉल या शो रूम में पार्ट टाइम काम कर रहे होते। महीना दर महीना अपने मां-पिता को चार पैसे भेज रहे होते। लेकिन नहीं... जेएनयू की सारी मुफ्त सुविधाएं पाकर तुम मगरूर हो गए हो। तुम्हें काहे की गरीबी कि चिंता। गरीबी से तुम नहीं हम जैसे करदाता लड़ रहे हैं। हम अपना टैक्स इसलिए कटवा रहे हैं ताकि गरीब घर से आए बच्चों को अच्छी से अच्छी शिक्षा मिल सके। ताकी पढ़-लिखकर तुम गरीबी के नारे नहीं बल्कि उसे दूर करने के उपाय बता सको। ताकी कल जब तुम कुछ बनो तब गर्व से कह सको कि मुझे मेरी गरीबी से हज़ारो-हज़ार करदाताओं ने निजाद दिलाई है। मैं उन करदाताओं को शत-शत नमन करता हूं। जिन्होंने सचमुच गरीबी से जंग लड़ने में इस देश का साथ दिया है। लेकिन नहीं तुम जैसे एहसान फरामोश ऐसा कभी नहीं कह सकते।
असल बात तो यह है कि तुम्हें गरीबी से कोई लेना देना नहीं है। तुम्हें तो गरीबी के नाम पर अपना लाल परचम लहराना है ताकी अगले सौ लालों तक तुम इस देश में गरीब और गरीबी को बनाए रख सको। यदि तुम्हें गरीबी की इतनी ही चिंता है तो अपने नज़दीकी बैंक शाखा में जाओ। वहां से स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया जैसी सरकारी योजना का लाभ उठाओ। लोन के लिए अप्लाई करो। काम करो। अपना एक व्यवसाय खड़ा करो। चार गरीबों को नौकरियां दो। ये कैंपस में खड़े होकर नारे लगाने से गरीबी दूर होने वाली नहीं है। शायद तुम नहीं जानते कि गरीबी का एक नारा सौ गरीबो को जन्म देता है। कहां तो तुम कहते हो कि गरीबों को भीख नहीं रोज़गार चाहिए। यदि ऐसा है तो एक बार फिर अपने बिहार, अपने बंगाल की तरफ देखो। क्यों वहां से सारे कल कारखाने तबाह कर दिए गए। पूछो अपने आकाओं से कि क्या उन्होंने ऐसा कर गरीबी खत्म की या उसे बढ़ाया।
प्यारे भाई, जीवन में कुछ सकारात्मक सोचो। लाल सलाम कहने भर से गरीबी दूर हो जाती तो अब तक बंगाल तरक्की के रास्ते पर होता। लाल सलाम कहने भर से गरीबी से जंग जीती जाती तो इस दुनिया की आधे से अधिक आबादी लाल होती। सूरज भी लाल निकलता और बसंत का रंग भी लाल कहा जाता।  चीन का लाल झण्डा भी आज दुनिया में लाल सलाम की वजह से नहीं अपने औद्योगिक विकास की वजह से बुलंद है।
हंसी तो तब आती है जब तुम गरीबी से ल़ड़ने के लिए राहुल और केजरीवाल जैसे नेताओं का साथ खड़े होते हो। ऐसे नेता जिन्होंने कभी गरीबी का ओर-छोर तक देखा नहीं है। जिन्हें तुम्हारे पेट की भूख नहीं मालूम...तुम्हारे ओठों की प्यास नहीं मालूम...जिन्हें नहीं मालूम की कड़कड़ाती ठंड में बिना कपड़े के कैसे रात गुजारी जाती है। तुम ऐसे नेताओं के साथ गरीबी की जंग लड़ना चाहते हो?
मूर्खता मत करों...अब भी वक्त है सम्हल जाओ। तुम नहीं जानते कि तुम्हारे ये गरीबी के नारे तुम्हारे आकाओं को कितना आनंद देते हैं। तुम्हें तुम्हारे भूखे पेट की इतनी ही चिंता है तो अपने ही नेता राजब्बर से उस ढ़ाबे का पता पूछो जहां 12 रुपए में भर पेट खाना मिलता है।
Read More

4 मार्च 2016

देश संभल जा जरा ! फिर कन्हैया बनने चला है हीरो | Reply To Kanhaiya Kumar's Speech

10:42 pm 0

देश संभल जा जरा ! फिर कन्हैया बनने चला है हीरो !! :-

जैसा कि फ़रवरी के दूसरे सप्ताह से ही जो देश का माहौल बिगड़ा हुआ है वो अब इस स्तर पर जा चूका है कि इसका कोई हद नही है . जो कुछ भी JNU में हुआ वो सभी देश वासियों को पता चला . लेकिन फिर भी परसों कन्हैया कुमार को जब जमानत मिली तो कुछ लोग उसको ऐसे सराहना दे रहे हैं जैसे उसने नोबल पुरस्कार जीत कर लाया हो . और फिर कन्हैया कुमार एक हीरो की तरह JNU कैंपस में एक बार फिर छा गया . और उसके स्पीच तो कुछ लोगो को ऐसा लगा जैसे वो अमृतवाणी सुन रहे हों .
      जो लोग भी कन्हैया कुमार को support कर रहे हैं , ये वही लोग हैं जो JNU Matter होने के बाद ट्विटर , फेसबुक पर हैश टैग लगा कर (#Anti-Nationals , #Gaddar , #TerroristsinJNU ) अपना स्टेटस शेयर कर रहे थे . और जबसे कन्हैया कुमार जेल से छुट कर आया है . ये लोग फिर अपना हैश टैग लगा कर विडियो स्पीच और स्टेटस शेयर करने में लगे हुए है .
      जबसे कन्हैया कुमार जेल से छुट कर आया है , कुछ लोग इतनी खुशिया मन रहे हैं जैसे उसने देश का नाम रोशन किया हो . मैं पूछता हूँ इन लोगो से की कितनी बार आपने खुशिया मनायीं थी जब- जब देश के वीर सैनिकों ने सीमा पर विजय का परचम लहराया था ? कितने दिन तक ट्वीट किया ? कितने दिन तक स्टेटस डाला? और तो और जब कन्हैया कुमार को जेल में भेजा गया तब कुछ लोगो के ऊपर तो ऐसे बीत रहा था मानों उनके ऊपर पहाड़ टूट पड़ा हो . इतने दुखी वो कभी नही हुए . मैं फिर पूछना चाहता हूँ कि जब कोई सैनिक शहीद होता है तो कितने दिन आप शोक मानते हो? या फिर खाना पीना छोड़ देते हो ? आप लोगो से ही पूछ रहा हूँ जो इस दो कौड़ी के कुत्ते के भाषण पर वाह कर रहे हो .
 ऐसा लगता हैं की ये लोग अपने सोशल मीडिया के पोस्ट से ही देश को शिखर तक पंहुचा देंगे . अगर देश में कुछ भी होता है तो सबसे पहले फेसबुक , ट्विटर पर बड़े बड़े दिग्गज लोग का ट्वीट आ जाता है . भले ही घर से बहार निकले 1 सप्ताह हो गया हो .
खैर मैंने भी वो लिंक देखा और मेरे हिसाब से देशद्रोही , कन्हैया कुमार का स्पीच सुना जिस पर सब लोग मंत्रमुग्ध हो गये थे . उसने अपने स्पीच में बोला की जो लोग बॉर्डर पर शहीद हो रहे हैं , मैं उनको salute करता हूँ . जो किसान आत्महत्या कर रहे हैं उनकी चिंता है मुझे . मैंने बोला क्या बात है भाई .!! उस दिन कहा थे जब JNU में भारत के बर्बादी के नारे लग रहे थे ? कहाँ थे उस दिन जब अफज़ल जैसे निर्मम आतंकवादी को ट्रिब्यूट दिया जा रहा था . कहा थे भाई? तेरा वो भाई देशद्रोही उमर खालिद तेरे साथ भारत के बर्बादी तक जंग चलाने और बर्बाद करने के सपने देख रहा था ? तब उस दिन तुझे बॉर्डर पर शहीद हो रहे हमारे देश के सैनिको का ख्याल नहीं आया ?
      कन्हैया ने बोला कि वो देश में भुखमरी , बेरोजगारी , किसान आत्महत्या , शिक्षा से आजादी की बात रहा रहा था . क्या यह बेरोजगारी तब से शुरू हुयी जबसे सरकार बदली ? या किसानों ने आत्महत्या करना तबसे शुरू किया जब मई २०१४ में सरकार बदली ?
अपने आप को स्टूडेंट बोलने वाले कन्हैया तू स्टूडेंट के नाम पर कलंक है . तू एक बार जेल चूका है तुझे खूब सारी पब्लिसिटी भी मिल गयी अब तू किसी भी भ्रष्ट पार्टी के नेता बन सकता है . और तू अपने और तेरे गुरु के अरमानों को पूरा भी कर सकता है .
मैं देश के सभी सम्मानित नागरिकों से विनती करता हूँ कि आप किसी भी देशद्रोही को support करने से पहले एक बार सीमा पर शहीद होते हुए नौजवानों के बारे में सोचो . एक बार उनके परिवार के बारे में सोचो . फिर किसी देशद्रोही के लिए अपने आँखों में नमी लाना .


Read More

3 मार्च 2016

FAN - Official Trailer Reaction & Spoof | Shah Rukh Khan | #RAP

11:05 pm 0
हाय दोस्तों ! २ दिन पहले लांच हुए FAN  मूवी का ट्रेलर जिसमे शाहरुख़ खान की अहम भूमिका है।  इस ट्रेलर ने आते ही यूट्यूब पर धूम मचा दी।  और शाहरुख़  खान के ओवरसीज fans  ने ट्रेलर का रिएक्शन वीडियो भी बनाया और यूट्यूब पर अपलोड कर दी ।

FAN  ट्रेलर youtube पर सबसे तेज 100000 लाइक्स पाने वाला पहला वीडियो बना ,
इसी बीच यूट्यूब का एक growing चैनल "Reactions Among People " ने FAN ट्रेलर का एक छोटा सा spoof ट्रेलर बनाया , जो की काफी appreciable है । अगर आपने अभी तक ये ट्रेलर स्पूफ नहीं देखा है तो आप नीचे embedded वीडियो में देख सकते हैं  ,



 



Read More